शनिवार, 30 जून 2018

चन्द माहिया : क़िस्त 48

चन्द माहिया  : क़िस्त 48

:1:
क्यों दुख से घबराए
धीरज रख मनवा
मौसम है बदल जाए

:2:
तलवारों पर भारी
एक कलम मेरी
और इसकी खुद्दारी

:3:
सुख-दुख  जाए आए
सुख ही कहाँ ठहरा
जो दुख ही ठहर जाए

:4:
तेरी नीली आँखें
ख़्वाबों को मेरे
देती रहती साँसें

:5:
आजीवन क्यों क्रन्दन
ख़ुद ही बाँधा है
जब माया का बन्धन

-आनन्द.पाठक-

शनिवार, 23 जून 2018

चन्द माहिया : क़िस्त 47

चन्द माहिया : क़िस्त 47
:1:
सब साफ़ दिखे मन से
धूल हटा पहले
इस मन के दरपन से
:2:
अब इश्क़ नुमाई क्या
दिल से तुम्हे चाहा
हर रोज़ गवाही क्या
:3:
मरने के ठिकाने सौ
दुनिया में फिर भी
जीने के बहाने सौ
:4:
क्या ढूँढ रहा ,पगले !
मिल जायेगा वो
मन तो बस में कर ले
:5:
जो देना ,दे देना
मेरी क्या चाहत
आँखों से समझ लेना
-आनन्द.पाठक

सोमवार, 4 जून 2018

एक गजल : कहने को कह रहा है--

221----2121---1221--212
मफ़ऊलु--फ़ाइलातु---मफ़ाईलु--फ़ाइलुन
बह्र-ए-मुज़ारिअ मुसम्मन अख़रब मक्फ़ूफ़ महज़ूफ़
------------------------------------

 ग़ज़ल : कहने को कह रहा है-----

 कहने को कह रहा है कि वो बेकसूर है
 लेकिन कहीं तो दाल में काला ज़रूर है

 लाया "समाजवाद" ग़रीबो  से छीन कर
 बेटी -दमाद ,भाई -भतीजों  पे नूर है

 काली कमाई है नही, सब ’दान’ में मिला
 मज़लूम का मसीहा है साहिब-ए- हुज़ूर है

 ऐसा  धुँआ उठा कि कहीं कुछ नहीं दिखे
 वो दूध का धुला है -बताता  ज़रूर  है

 ’कुर्सी ’ दिखी  उसूल सभी  फ़ाख़्ता हुए
 ठोकर लगा ईमान किया चूर चूर  है

 सत्ता का ये नशा है कि सर चढ़ के बोलता
 जिसको भी देखिये वो सर-ए-पुर-ग़रूर है

 ये रहनुमा है क़ौम के क़ीमत वसूलते
 ’आनन’ फ़रेब-ए-रहनुमा पे क्यों सबूर है ?

-आनन्द.पाठक-
शब्दार्थ -
सबूर = सब्र करने वाला/धैर्यवान
सर-ए-पुर ग़रूर =घमंडी/अहंकारी
[सं 04-06-18]

शनिवार, 2 जून 2018

चन्द माहिया : क़िस्त 45

चन्द माहिया : क़िस्त 45

        :1:
सब ग़म के भँवर में हैं
कौन किसे पूछे
सब अपने सफ़र में हैं

;2:
अपना ही भला देखा
देखी कब मैने
अपनी लक्षमन रेखा

:3:
माया की नगरी में
बाँधोंगे कब तक
इस धूप को गठरी में

:4:
होठों पे तराने हैं
आँखों में किसके
बोलो .अफ़साने हैं

:5:
आँखों में शरमाना
दिल  मे कुछ तो है
रह रह के घबराना



-आनन्द.पाठक-
[सं 15-06-18]

शनिवार, 26 मई 2018

चन्द माहिया : क़िस्त 44


          :1:
ख़ुद क़ैद में आया है
अपना ये पिंजरा
खुद तूने बनाया है


:2:
किस बात का है रोना
छूट ही जाना है
क्या पाना,क्या खोना ?

          :3:
जब चाँद नहीं उतरा
खिड़की मे,तो फिर
किसका चेहरा उभरा

          :4:
जब तुमने पुकारा है
कौन यहां ठहरा
लौटा न दुबारा है

          :5:
हर साँस अमानत है
जितनी भी उतनी
उसकी ही इनायत है

-आनन्द.पाठक- 
[सं 15-06-18]

शुक्रवार, 18 मई 2018

चन्द माहिया : क़िस्त 43

चन्द माहिया : क़िस्त 43

:1:
जज्बात की सच्चाई
नापोगे कैसे
इस दिल की गहराई[  [42 में आया है]

:2:
तुम को सबकी है ख़बर
कौन छुपा तुम से
सब तेरी ज़ेर-ए-नज़र

:3:
कब मैने सोचा था
टूट गया वो भी
जो तुम पे भरोसा था

:4:
इतना जो मिटाया है
और मिटा देते
दम लब तक आया है

:5:
कितनी भोली सूरत
जैसे बनाई हो
ख़ुद रब ने ये मूरत

-आनन्द.पाठक-
[सं 15-06-18]

शनिवार, 3 मार्च 2018

एक ग़ज़ल : ये कैसी रस्म-ए-उलफ़त है----

मफ़ाईलुन---मफ़ाईलुन--मफ़ाईलुन--मफ़ाईलुन
बह्र-ए-हज़ज मुसम्मन सालिम
1222---1222----1222------1222
--------------------------------------

एक ग़ज़ल : ये कैसी रस्म-ए-उलफ़त है----

ये कैसी रस्म-ए-उलफ़त है ,न आँखें नम ,न रुसवाई
ज़माने को खटकता क्यों  है दो दिल की  पज़ीराई

तुम्हारे हाथ में पत्थर ,  जुनून-ए-दिल इधर भी है
न तुम जीते ,न दिल हारा,मुहब्बत भी न रुक पाई

न भूला है ,न भूलेगा कभी यह आस्तान-ए-यार
मेरी शिद्दत ,मेरे सजदों की अन्दाज़-ए-जबींसाई

तुम्हारे सितम की मुझ पर अभी तो इन्तिहा बाक़ी
कभी देखा नहीं होगा , मेरी जैसी शिकेबाई

तुम्हारी तरबियत में ही कमी कुछ रह गई होगी
वगरना कौन करता है मुहब्ब्त की यूँ  रुसवाई

कभी जब ’मैं’ नहीं रहता ,तो बातें करती रहती हैं
उधर से कुछ तेरी यादें ,इधर से मेरी तनहाई

हमारी जाँ ब-लब है ,तुम अगर आ जाते इस जानिब
ज़रा कुछ देखते हम भी कि होती क्या  मसीहाई

मैं मह्व-ए-यार में डूबा रहा ख़ुद से जुदा ’आनन’
मुझे होती ख़बर क्या कब ख़िज़ाँ आई ,बहार आई

-आनन्द.पाठक-

शब्दार्थ
पजीराई =चाहत ,स्वीकृति ,मक़्बूलियत
आस्तान-ए-यार = प्रेमिका के देहरी का चौखट/पत्थर
अन्दाज़-ए-जबींसाई = माथा रगड़ने का अन्दाज़.
शिकेबाई      =धैर्य/धीरज/सहिष्णुता
तरबियत =पालन पोषण
जाँ-ब-लब =मरणासन्न स्थिति
मह्व-ए-यार = यार के ध्यान में मग्न /मुब्तिला

[सं 28-05-18]