शनिवार, 30 मई 2009

एक गीत : मालूम था मेरी देहरी ....

मालूम था मेरी देहरी को ठुकरा कर चल जाना है
फिर भी तेरे स्वागत में है वन्दनवार सजाए ||

ऋचा-मन्त्र से आह्वान पर आह्वान करता हूँ
हवन-कुण्ड में आकांक्षा की समिधा देता हूँ
वही प्रतीक्षारत हैं आँखे कल भी आज वही
मुझको क्या मालूम नहीं था शर्ते आने की !

मालूम था पत्थर न कभी पिघला है न पिघलेगा
फिर भी आशाओं की अंजुरी भर-भर फूल चढ़ाए

एकाकी रातों की बातें तारो संग बांटे हैं
आँखों में सपने भर-भर अंधियारी कांटे है
उनको ही दुलराता हूँ सम्बल एकाकीपन की
वरना क्या मालूम नहीं था शर्तें चाहत की !

मालूम था मेरे आँगन में खुशियाँ कभी न उतरी हैं
फिर भी आंसू भर-भर कर हैं स्वागत कलश सजाए

सब ने हमको भ्रमित किया लम्बी राह दिखा कर
'ढाई-आखर' भुला दिया है ऊँची बात सुना कर
'पाप-पुण्य' है'ऊंच-नीच' है कैसी धर्म विवशता !
भुला दिया है आज मनुज ने मानव से मानवता

मार्ग अपावन उदघोषित कर तुम न इधर आओगे
फिर भी तेरे स्वागत में है पलकें पाँव बिछाए

संबोधन की मर्यादा है , संबोधन चाहे जो हो
सत्य-समर्पण ही शाश्वत ,नाम भले जो कह लो
मेरे मंदिर-आसन भी परित्यक्त नहीं,अभिमंत्रित है
प्राण-प्रतिष्ठा पावन क्षण में आप स्वयं आमंत्रित हैं

मालूम है सूनी नगरी में भला कौन आया है
फिर भी चन्दन-रोली-अक्षत अर्चन थाल सजाए
मालूम था .....

-आनंद

2 टिप्‍पणियां:

ajay kumar jha ने कहा…

shabdon kaa chayan aur upyog adbhut hai badnhu ....

SWAPN ने कहा…

संबोधन की मर्यादा है , संबोधन चाहे जो हो
सत्य-समर्पण ही शाश्वत ,नाम भले जो कह लो
मेरे मंदिर-आसन भी परित्यक्त नहीं,अभिमंत्रित है
प्राण-प्रतिष्ठा पावन क्षण में आप स्वयं आमंत्रित हैं

मालूम है सूनी नगरी में भला कौन आया है
फिर भी चन्दन-रोली-अक्षत अर्चन थाल सजाए

bahut hi khubsurat panktian, bahut bahut badhai.