शुक्रवार, 2 जुलाई 2010

ग़ज़ल : ग़म-ए-दौराँ से.....

मफ़ाईलुन--मफ़ाईलुन--फ़ऊलुन
1222--------1222------122
बह्र-ए-हज़ज मुसद्दस सालिम महज़ूफ़
----------------------------
ग़ज़ल : ग़म-ए-दौराँ से .....

ग़म-ए-दौराँ से मेरी सिलसिला है
तुझे ऐ ज़िन्दगी ! फिर क्या गिला है?

वो जिसके इश्क़ में दिल मुब्तिला है
वो ही पूछे " मुहब्बत क्या बला है "?

 मेरे सर से तुम्हारी आस्ताँ तक
तुम्हीं कह दो कि कितना फ़ासला है ?

तिरे जानिब से तूफ़ान-ए-जफ़ा हैं
मिरे जानिब चिराग़-ए-हौसला है

नज़र आती नहीं मंज़िल कहीं भी
अजब ये ज़िन्दगी का क़ाफ़िला है?

हमें दुनिया से क्या लेना अब "आनन"!
हमें तुम मिल गए , सब कुछ मिला है

-आनन्द.पाठक-

[सं 19-05-18]

3 टिप्‍पणियां:

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

गजल तो शानदार है, लेकिन कितनी जगह पढवाएंगे हुजूर?
………….
दिव्य शक्ति द्वारा उड़ने की कला।
किसने कहा पढ़े-लिखे ज़्यादा समझदार होते हैं?

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

नज़र आती नहीं मंज़िल कहीं भी
अजब ये ज़िन्दगी का क़ाफ़िला है ?

बहुत बढ़िया गजल...वाह

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

नज़र आती नहीं मंज़िल कहीं भी
अजब ये ज़िन्दगी का क़ाफ़िला है ?

बहुत बढ़िया गजल...वाह