सोमवार, 13 फ़रवरी 2012

होली पर एक भोजपुरी गीत

[बहुत गा चुके गीत खड़ी बोली के हमने


भोजपुरी कS एगो गीत बा रऊआ समने ]

          --------होली पर एक भोजपुरी गीत-----------

कईसे मनाईब होली ? हो राजा !

कईसे मनाईब होली ........



आवे केS कह गईला अजहूँ नS अईला

’एसमसवे" भेजला नS पइसे पठऊला

पूछा नS कईसे चलाईला खरचा-

तोहरा का मालूम? परदेसे रम गईला


कईसे सजाईं रंगोली ? हो राजा !

कईसे सजाईं रंगोली......



मईया के कम से कम लुग्गा तS चाही

’नन्हका’ छरिआईल बा जूता तS चाही

मँहगाई मरलस कि आँटा बा गीला-

’मुनिया’ के कईसे अब लहँगा सियाई ?


कईसे सियाईं हम चोली ? हो राजा !

कईसे सियाईं चोली....



’रमनथवा’ मारे ला रह रह के बोली

’कलुआ’ मुँहझँऊसा करेला ठिठोली

पूछेलीं गुईयां सब सखियाँ सहेली

अईहैं नS ’जीजा’ का अबकी ईS होली?


खा लेबों जहरे कS गोली, हो राजा !

खा लेबों जहरे कS गोली........

अरे! कईसे मनाईब होली हो राजा..कैसे मनाईब होली



-आनन्द.पाठक



’एसमेसवे = SMS ही

कोई टिप्पणी नहीं: