गुरुवार, 1 अगस्त 2013

एक ग़ज़ल : वो चाहता है ...




वो चाहता है  तीरगी को रोशनी  कहूँ
कैसे ख़याल-ए-ख़ाम को मैं आगही कहूँ ?

ग़ैरों के दर्द का तुम्हें  एहसास ही नहीं
फिर क्या तुम्हारे सामने ग़म-ए-आशिक़ी कहूँ !

सच सुन सकोगे तुम में अभी वो सिफ़त नहीं
कैसे सियाह रात को मैं चाँदनी कहूँ  ?

रफ़्तार-ए-ज़िन्दगी से जो फ़ुरसत अगर मिले
रुदाद-ए-ज़िन्दगी की कभी अनकही  कहूँ

जाने को थे किधर ,अरे ! जाने लगे किधर ?
इसे बेखुदी कहूँ कि इसे तिश्नगी कहूँ ?

’ज़र’ भी पड़ा है सामने ,’ईमान’ भी  खड़ा
’आनन’ किसे मैं छोड़ दूँ,किसमें ख़ुशी,कहूँ

-आनन-
09413395593

कोई टिप्पणी नहीं: