मंगलवार, 19 अगस्त 2014

कुछ मुक्तक




दर्द के गीत गाता  रहा
मन ही मन मुस्कराता रहा
आँसुओं ने बयां कर दिया
वरना मैं तो छुपाता रहा 

xx        xx    xx

दिल खिलौना समझ ,तोड़ कर
चल दिए तुम मुझे  छोड़ कर
मैं खड़ा हूँ  वहीं   आज तक
ज़िन्दगी के उसी  मोड़  पर 

xx      xx      xx

हाल पूछो न मेरी हस्ती का
सर पे इलजाम बुत परस्ती का
उसको ढूँढा ,नहीं मिला मुझको
क्या गिला करते अपनी पस्ती का

xx      xx     xx 

लोग बैसाखियों के सहारे चले
जो चले भी किनारे किनारे चले
सरपरस्ती न हासिल हुई थी जिसे
वो समन्दर में कश्ती उतारे चले

xx       xx      xx

चन्द लम्हे भी क्या हसीं  होते
आप दिल के मिरे मकीं  होते
ज़िन्दगी और भी सँवर जाती
आप मेरे जो  हमनशीं होते

-आनन्द.पाठक--
09413395592

कोई टिप्पणी नहीं: