मंगलवार, 23 सितंबर 2014

चन्द माहिया : क़िस्त 09

                                    चन्द माहिया : क़िस्त 09

    :01:

दुनिया के ताने क्यूँ

प्यार अगर सच है
मिलने में बहाने क्यूँ


    :02:


मन में  है वृन्दावन
साँसों में राधा

हर साँस में मनमोहन



    ;03:


सौ बार कहा हम  ने

भूल उसे जाना
कब बात सुनी ग़म ने

    :04:


जुम्बिश तो लबों पर है

 कहना है कह दो
किस बात का अब डर है

     :05:


मुश्किल से मिले  हम तुम

बाँहों में आ कर
क्यों रहती हो  गुमसुम


-आनन्द.पाठक

[सं 15-06-18]

1 टिप्पणी:

निर्मला कपिला ने कहा…

वाह्ह्ह्ह बहुत सुन्दर 1