रविवार, 26 अक्तूबर 2014

चन्द माहिया : क़िस्त 10



:1: 
रंगोली आँगन की
देख रही रस्ता 
साजन के आवन की

:2:


धोखा ही सही ,माना

अच्छा लगता है 
तुम से धोखा खाना

:3:


औरों से रज़ामन्दी

महफ़िल में  तेरी 
मेरी ही जुबांबन्दी ?

:4:


माटी से बनाते हो 

क्या मिलता है जब
माटी में मिलाते हो ?

:5:

सच ,वो, न नज़र आता 

दिल में है कोई
जो राह दिखा  जाता 

-आनन्द.पाठक-
[सं 15-06-18]


कोई टिप्पणी नहीं: