मंगलवार, 28 मार्च 2017

चन्द माहिया : क़िस्त 35

चन्द माहिया : क़िस्त 35

:1:

सजदे में पड़े हैं हम
लेकिन जाने क्यूँ 
दिल है दरहम बरहम

;2;

जब से है तुम्हें देखा
दिल ने कब मानी
कोई लक्ष्मन  रेखा

:3:

क्या बात हुई ऐसी
तेरे दिल में अब
चाहत न रही वैसी

:4:
समझो न कि पानी है 
क़तरा आँसू का
ख़ुद एक कहानी है

:5:

वो शाम सुहानी है
जिसमें है शामिल
कुछ याद पुरानी है

शब्दार्थ   दरहम बरहम = तितर बितर ,अस्त व्यस्त ,व्यथित

-आनन्द.पाठक-
08800927181

कोई टिप्पणी नहीं: