सोमवार, 29 मई 2017

चन्द माहिया: क़िस्त 31

क़िस्त : 31

:1:

माना कि तमाशा है
कार-ए-जहाँ में सब
फिर भी इक आशा है

:2:

दरपन तो दरपन है
झूट नहीं बोले
सच बोल रहा मन है

:3:

क्या छाई घटाएं हैं
दिल है रिन्दाना
सन्दल सी हवायें हैं

:4:

जितना देखा फ़लक
उतनी ही तेरी
बातों में सच की झलक

:5:

ये कैसा नशा किस का
अब तक नै देखा
एह्सास है बस जिसका

-आनन्द.पाठक--
08800927181

कोई टिप्पणी नहीं: