गुरुवार, 23 जुलाई 2020

ग़ज़ल 153 : दीदार-ए-हक़ में ---

बह्र  मुज़ारे’ मुसम्मन अख़रब मक्फ़ूफ़ महज़ूफ़
मफ़ऊलु---फ़ाइलातु----मफ़ाईलु----फ़ाइलुन
221   -----2121-------1221-------212
------------------
एक ग़ज़ल : दीदार-ए-हक़---

दीदार-ए-हक़ में दिल कोअभी ताबदार कर
दिल-नातवाँ को और ज़रा बेक़रार  कर

गुमराह हो रहा है भटक कर इधर उधर
इक राह-ए-इश्क़ भी है वही इख़्तियार कर

कब तक छुपा के दर्द रखेगा तू इस तरह
अब वक़्त आ गया है इसे आशकार  कर

कजरौ ! ये पैरहन भी इनायत किसी की है
हासिल हुआ है गर तुझे तो आबदार कर

हुस्न-ए-बुताँ की बन्दगी गर जुर्म है ,तो है
ऎ दिल ! हसीन  जुर्म  ये  तू बार बार कर

ऐ शेख ! सब्र कर तू , नसीहत न कर अभी
आता हूँ मैकदे से ज़रा इन्तिज़ार  कर

दुनिया हसीन है ,कभी तू देख तो सही
’आनन’ न ख़ुद को हर घड़ी तू अश्कबार कर

-आनन्द.पाठक-

शब्दार्थ --


आशकार      = ज़ाहिर
कज रौ = ऎंठ कर चलनेवाला
पैरहन = लिबास
आबदार =चमकदार /पानीदार
हुस्न-ए-बुताँ की = हसीनों की
नासेह = नसीहत करने वाला
अश्कबार          = आँसू बहाना

गुरुवार, 2 जुलाई 2020

ग़ज़ल152 : चाहे ग़म था ,ख़ुशी थी ,कटी ज़िन्दगी---

बह्र-ए-मुतदारिक मुसम्मन सालि,
फ़ाइलुन---फ़ाइलुन--फ़ाइलुन  -फ़ाइलुन
21 2-------212------212-------212-

चाहे ग़म था ,ख़ुशी थी ,कटी ज़िन्दगी
लड़खड़ाती संभलती  रही ज़िन्दगी 

दाँव पर दाँव चलती रही ज़िन्दगी
शर्त हारे कभी हम ,कभी  ज़िन्दगी 

वक़्त ने कब नहीं आजमाया मुझे
साथ छोड़ी नहीं  पर कभी  ज़िन्दगी 

तेरे आदाब क्या हैं ,पता ही नहीं
आज तू ही बता दे मेरी ज़िन्दगी 

अपनी हिम्मत को हमने न मरने दिया
आंधियॊ से भी लड़ती रही ज़िन्दगी 

तेरे घर तक को जाने के सौ  रास्ते 
प्यार की राह बस चल पड़ी ज़िन्दगी

हैफ़ ! ’आनन’ तू ख़ुद से ही गाफ़िल रहा
वरना हर रंग में थी रँगी ज़िन्दगी   

-आनन्द.पाठक-


हैफ़ = अफ़सोस