शुक्रवार, 19 फ़रवरी 2021

अनुभूतियाँ 04

 

अनुभूतियाँ 04

 

 01

क़तरा क़तरा दर्द हमारा,

हर क़तरे में एक कहानी ।

शामिल है इसमे दुनिया की

मिलन-विरह की कथा पुरानी ।

  

02

जब से छोड़ गई तुम मुझ को

सूना दिल का  कोना कोना ।

कब तक साथ भला तुम चलती,

आज नहीं तो कल था होना ।

 

03

इतना सितम न ढाओ मुझ पर

टूट गया तो जुड़ न सकूँगा ।

लाख करोगी कोशिश तो भी,

चला गया तो मुड़ न सकूँगा ।

  

04

फूल-गन्ध का रिश्ता क्या है ?

तुम ने कभी नहीं जाना  है ।

जीवन भर का साथ  हमारा

लेकिन कब तुम ने माना है ।

  

-आनन्द.पाठक-

कोई टिप्पणी नहीं: