मंगलवार, 16 फ़रवरी 2021

गीत 69 : सरस्वती वन्दना

 [*आज 16-फ़रवरी ,वसंत पंचमी और ’सरस्वती पूजन’ का दिन ।

इस शुभ अवसर पर रचना प्रस्तुत कर रहा हूँ* । आशीर्वादाकांक्षी हूँ ।

सरस्वती वंदना


हंसवाहिनी ! ज्ञानदायिनी ! ज्ञान कलश भर दे !
माँ शारदे वर दे ।

मिटे तमिस्रा कल्मष मन का
मन निर्मल कर दो जन जन का

वीणापाणी ! सिर पर मेरे,वरद हस्त धर दे!
माँ!वागेश्वरी ! वर दे !

अंधकार पर विजय लिखे यह
सच के हक़ में खड़ी रहे यह

निडर लेखनी चले निरन्तर ,धार प्रखर कर दे !
!माँ भारती ! वर दे !

सप्त तार वीणा के झंकृत
हो जाते सब राग अलंकृत

बहे कंठ से स्वर लहरी माँ, राग अमर कर दे !
माँ सरस्वती ! वर दे ।

-आनन्द.पाठक-


कोई टिप्पणी नहीं: